7वां वेतन आयोग: केंद्र सरकार के कर्मचारियों को मिल सकता है फिटमेंट फैक्टर, डीए में बढ़ोतरी

अगर सरकार फिटमेंट फैक्टर बढ़ाकर 3.68 फीसदी कर देती है तो कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये से बढ़कर 26,000 रुपये हो जाएगा। वर्तमान में सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के तहत 2.57 प्रतिशत फिटमेंट फैक्टर के आधार पर वेतन मिलता है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के मूल वेतन की गणना के लिए फिटमेंट फैक्टर का उपयोग किया जाता है।

केंद्र सरकार के कर्मचारियों को फिटमेंट फैक्टर में इंक्रीमेंट मिल सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार कर्मचारियों के लिए फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी की घोषणा कर सकती है, जिससे उनकी सैलरी में इजाफा होगा।

अगर सरकार फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने का फैसला करती है तो वह सरकारी कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन में वृद्धि करेगी। ये कर्मचारी लंबे समय से फिटमेंट फैक्टर को 2.57 गुना से बढ़ाकर 3.68 गुना करने की मांग कर रहे हैं।

अगर सरकार फिटमेंट फैक्टर बढ़ाकर 3.68 फीसदी कर देती है तो कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये से बढ़कर 26,000 रुपये हो जाएगा। वर्तमान में केंद्र सरकार के कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के तहत 2.57 प्रतिशत फिटमेंट फैक्टर के आधार पर वेतन मिलता है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के मूल वेतन की गणना के लिए फिटमेंट फैक्टर का उपयोग किया जाता है।

मूल वेतन में वृद्धि का मतलब है कि महंगाई भत्ते सहित सभी भत्ते बढ़ जाएंगे। डीए साल में दो बार बढ़ाया जाता है - जनवरी और जुलाई में। हालांकि, सरकार ने अभी तक इस साल डीए वृद्धि की घोषणा नहीं की है। जुलाई 2021 में बढ़ोतरी के बाद कर्मचारियों का डीए सातवें वेतन आयोग के तहत उनके मूल वेतन के 31 प्रतिशत तक पहुंच गया। हालांकि, फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी पर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

इससे पहले, सरकार ने 1 जुलाई, 2021 से महंगाई भत्ते को मूल वेतन के 28 प्रतिशत से बढ़ाकर 31 प्रतिशत कर दिया था। वित्त मंत्रालय के अनुसार, इस फैसले से लगभग 47.14 लाख केंद्र सरकार के कर्मचारियों और 68.62 लाख पेंशनभोगियों को फायदा हुआ।

इस तरह की स्टोरी को पढ़ने के लिए नीचे दिये गए button को click करे