sawan ka mahina 2023 | श्रावण माह में सोमवार का महत्व और सोमवार के व्रत

sawan ka mahina-dhanbadonline.com-
sawan ka mahina-dhanbadonline.com-

sawan ka mahina : साल 2023 में सावन का महीना 4 जुलाई- 31 अगस्त है और लोग बाबा भोलेनाथ को खुश करने और अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए कावड़ यात्रा शुरू करते हैं वैसे. मैं आपको यह जानना जरूरी है कि आप घर बैठे भी बाबा भोलेनाथ को कैसे प्रसन्न कर सकते हैं और उनसे अपना मनोवांछित वर प्राप्त कर सकते हैं सावन मास बाबा भोलेनाथ को सबसे प्रिय महीना है इसमें सभी श्रद्धालु और बाबा भोलेनाथ के भक्त बाबा के विभिन्न मंदिरों में जाकर जलाभिषेक करते हैं जिसमें वह गंगाजल लेते हैं और पैदल यात्रा कर कर बाबा के मंदिर में जाकर उनके शिवलिंग पर जलाभिषेक करते हैं

कहा जाता है कि ऐसा करने से बाबा भोलेनाथ बहुत ही प्रसन्न होते हैं और कांवरियों को उनका मन वांछित फल देते हैं अब जो लोग कावर यात्रा नहीं कर पा रहे हैं क्या वह भगवान शंकर को प्रिय नहीं है हैं वह भी हैं और वह भी बाबा भोलेनाथ को घर रह कर भी खुश कर सकते हैं इसके लिए सावन के सावन महीना में पढ़ने वाले हर सोमवारी को लोग अपने नजदीक के शिवालय में जाकर पूजा अर्चना कर कर और जलाभिषेक रुद्राभिषेक करके 20 भगवान शंकर को प्रसन्न कर सकते हैं।

सावन महीना के सोमवारी व्रत का महत्व-sawan ka mahina

साल 2023 में सावन महीना में कुल चार सोमवार हो रहे हैं . पहले सोमवार को शिव जी के साथ उनके नाग की पूजा करना विशेष फलदाई होगा।

दूसरा सोमवार – इस दिन प्रदोष व्रत का सहयोग भी बना है ऐसे में सावन का दूसरा सोमवार से भक्तों के लिए बहुत ही उत्तम रहने वाला है इस सोमवार सहयोग के साथ-साथ सोने पर सुहागा यह भी है कि सावन के दूसरे सोमवार को स्वार्थ सिद्धि योग अमृत सिद्धि और दुरुपयोग का संयोग बन रहा है। तीसरा सोमवार – इस दिन चतुर्थी तिथि है और इस दिन शंकर भगवान के साथ-साथ आप भगवान गणेश की भी पूजा कर सकते हैं इस दिन रवि योग का भी संयोग बन रहा है। सावन का चौथा सोमवार – यह सावन मास का अंतिम सोमवार है सावन मास का चौथा सोमवारी एक एकादशी के दिन लग रहा है जिसे पवित्रा एकादशी के नाम से भी जानते हैं ऐसे में इस दिन व्रत रखने से श्रद्धालुओं को एक साथ भगवान शिव और विष्णु के व्रत का पुण्य प्राप्त होता है।

सावन के सोमवारी को कैसे करें शिव का पूजन जिससे शिव प्रसन्न हो जाए

1.सर्वप्रथम ब्रह्म मुहूर्त में जाग जाए और उसके बाद पूरे घर की साफ सफाई करके स्नान आदि नित्य क्रिया कर ले।

2.इसके बाद घर को गंगाजल का छिड़काव करें।

4.स्नान करने के बाद आप हरा रंग केसरिया रंग पीला लाल या सफेद रंग का वस्त्र धारण करें कभी भी काले रंग का वस्त्र धारण न कर पूजा करते समय।

5.इस दिन आप भगवान शंकर के साथ माता पार्वती को भी पोस्ट धूप दीप और जल से पूजा करें

6.सोमवार के दिन भगवान शिव के व्रत और पूजन के बाद आप महामृत्युंजय जाप 108 बार कर सकते हैं यह बहुत ही श्रेष्ठ माना जाता है इस जांच से आप सभी रोगों और व्याधियों से मुक्त होंगे और मन में शांति आएगी।

7.इसके अलावा आप ओम नमः शिवाय का भी जाप 108 बार कर सकते हैं यह भी अधिक फलदाई है।

यदि आप सोमवार का व्रत करते हैं तो पूरे दिन लहार का सेवन करें और तीन में एक बार भोजन करें जिसमें अन्य और नमक का सेवन ना करें। ऐसा करने से भगवान शंकर बहुत ही शीघ्र प्रसन्न होंगे और आपको मनवांछित फल की प्राप्ति होगी हर हर महादेव।

Homepage: https://dhanbadonline.com/

Leave a Comment